अश्लील फिल्में देखने का आदी है सरकारी स्कूल का प्रिंसिपल, नाबालिक छात्राओं से किया दुष्कर्म

0
137

राजस्थान के आदिवासी बाहुल्य डूंगरपुर जिले के सदर थाना इलाके में नाबालिग छात्राओं से दुष्कर्म और छेड़छाड़ के आरोप में पकड़े गए सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल को लेकर सनसनीखेज खुलासा हुआ है. पुलिस की जांच में सामने आया है कि यह प्रिंसिपल अश्लील फिल्में देखने का आदी है. यह बच्चों के देहशोषण से जुड़ी अश्लील फिल्में देखता था. मोबाइल में गंदी फिल्में देखकर बाद में स्कूल की नाबालिग छात्राओं को अपना शिकार बनाता था.

पुलिस के अनुसार सरकारी स्कूल की नाबालिग छात्राओं से दुष्कर्म करने के आरोपी ददोडिया निवासी प्रिंसिपल रमेशचंद्र कटारा की रिमांड अवधि समाप्त होने पर सोमवार को उसे पोक्सो कोर्ट में पेश किया गया. वहां से उसे वापस 2 दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिए गए हैं. पुलिस रिमांड के दौरान रमेशचंद्र कटारा ने चौंकाने वाले कई खुलासे किए हैं.

पहली छात्रा जब डर गई तो आरोपी के हौंसले बुलंद हो गए
पुलिस अधीक्षक कुंदन कंवरिया ने बताया कि आरोपी प्रिंसिपल रमेशचंद्र कटारा बच्चों से जुड़ी अश्लील फिल्मे देखने का आदी है. मोबाइल में गंदी फिल्में देखकर वह स्कूल की नाबालिग छात्राओं के साथ दुष्कर्म करता था. एसपी कुंदन ने बताया कि करीब साल भर पहले उसने एक छात्रा के साथ दुष्कर्म किया. पीड़ित छात्रा ने जब डर के मारे अपनी आपबीती किसी को नहीं बताई तो उसके हौसले बुलंद हो गए.

छात्राओं को स्कॉर्पियो कार में बिठा कर अपने घर लाता था
बाद में उसने 1 साल में एक-एक करके स्कूल की 6 छात्राओं से दुष्कर्म किया. आरोपी प्रिंसिपल रमेशचंद्र अपनी इच्छाएं पूरी करने के बाद छात्राओं को लालच देकर और डरा धमका कर उनकी आवाज को दबा देता था. प्रिंसिपल स्कूल के अलावा छात्राओं को स्कॉर्पियो कार में बिठा कर अपने घर लाता था. उसके बाद उनके साथ वहां हैवानियत करता था. पुलिस ने वारदात में काम ली गई स्कार्पियो कार जब्त कर ली है. एसपी कुंदन ने बताया कि 2 दिन की रिमांड अवधि के दौरान आरोपी प्रिंसिपल से और गहनता से पूछताछ की जाएगी. उल्लेखनीय है कि हाल ही में पीड़ित छात्राएं अपने परिजनों को लेकर कलेक्टर के पास शिकायत लेकर गई थी. उसके बाद इस मामले का खुलासा हुआ है.