Narendra Modi

12822/ 18 RO NO

6 शिकारी अंडमान के जंगल में घुसे, खाना खत्म, नाव बिगड़ी, फिर हुआ ये खौफनाक अंजाम

0
137

पोर्ट ब्लेयर. अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के सुदूर नारकोंडम द्वीप में म्यांमार के छह संदिग्ध शिकारियों के शव पाए गए हैं. एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी. अधिकारी ने बताया कि ऐसा प्रतीत होता है कि इन शिकारियों के पास मौजूद खाने-पीने का सामान खत्म हो जाने के बाद उन्हें इस छोटे ज्वालामुखी द्वीप पर भोजन और पानी नहीं मिल सका, जिसके कारण उनकी मौत हो गई. द्वीप तक पहुंचने के लिए वे जिस छोटी नाव का उपयोग करते थे उसमें कुछ खराबी आ गई थी और वे वापस नहीं लौट सके थे. उनके शव शनिवार को नारकोंडम द्वीप के जंगल में समुद्र किनारे से कुछ मीटर की दूरी पर मिले.

नारकोंडम भारत के सबसे पूर्वी हिस्से में स्थित है. उत्तरी और मध्य अंडमान जिले का नारकोंडम द्वीप म्यांमार के कोको द्वीप से केवल 126 किलोमीटर दूर है. यह ‘एंडेसाइट’ नामक ज्वालामुखीय चट्टान से बना है. भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (जीएसआई) ने इस द्वीप को सुप्त ज्वालामुखी के रूप में वर्गीकृत किया है. लगभग 7.6 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले इस द्वीप में शिकार के लिए म्यांमार के शिकारी अकसर आते हैं.

पकड़े गए शिकारियों से खुला मामला
अधिकारी ने बताया कि अंडमान पुलिस ने 14 फरवरी को एक तलाश अभियान के दौरान नारकोंडम द्वीप से म्यांमार के दो शिकारियों को पकड़ा था और उन्हें पोर्ट ब्लेयर लेकर सीआईडी (अपराध अन्वेषण विभाग) को सौंप दिया था. उन्होंने बताया कि इन शिकारियों ने पूछताछ के दौरान बताया कि उनके देश के छह और शिकारी नारकोंडम के जंगल में छिपे हुए हैं. अधिकारी ने कहा कि ‘अंडमान पुलिस के दल ने तुरंत उनकी तलाश शुरू कर दी और उसे छह शिकारियों के शव मिले.’

2 साल में अंडमान से म्यांमार के 100 से अधिक शिकारी गिरफ्तार
शवों को तटरक्षक बल की मदद से पोर्ट ब्लेयर के एक अस्पताल लाया गया और इस मामले में आगे की जांच जारी है. अधिकारी ने कहा कि ‘केंद्रीय गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय को इस बारे में सूचित कर दिया गया है ताकि शवों को म्यांमार को सौंपने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर औपचारिकताएं पूरी की जा सकें.’ पिछले दो साल में द्वीपसमूह से म्यांमार के 100 से अधिक शिकारियों को गिरफ्तार किया गया है.