107 साल की दादी रामबाई ने फिर दिखाया जलवा, 2 गोल्ड मेडलों पर किया कब्जा

0
49

मन में जीत का जुनून हो, तो उम्र भी कोई मायने नहीं रखती है. ऐसा ही कर दिखाया है हरियाणा के चरखी दादरी की रहने वाली 107 साल की दादी रामबाई ने. उड़नपरी के नाम से प्रसिद्ध दादी रामबाई इस समय हैदराबाद के मैदान पर फर्राटा भर रही हैं. हैदराबाद में आयोजित नेशनल प्रतियोगिता में बुजुर्ग एथलीट रामबाई ने न केवल भागीदारी की है, बल्कि हरियाणा का प्रतिनिधित्व कर 2 गोल्ड मेडल हासिल की है.

वहीं, रामबाई की 65 साल की बेटी संतरा देवी ने भी अलग-अलग स्पर्धाओं में तीन मेडलों पर कब्जा किया है. बता दें कि रामबाई ने अपना पासपोर्ट बनवा लिया है और विदेशी धरती पर गोल्ड जीतकर देश का नाम रोशन करना चाहती है.

दादी रामबाई ने 2 गोल्ड मेडल पर किया कब्जा

दरअसल, हैदराबाद में 8 से 11 फरवरी तक पांचवी नेशनल मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप का आयोजन किया जा रहा है. इसमें देशभर के विभिन्न राज्यों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं. इस प्रतियोगिता में चरखी दादरी जिले के गांव कादमा के रहने वाली 107 साल की बुजुर्ग एथलीट रामबाई ने 105 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में हरियाणा का प्रतिनिधित्व करते हुए डिस्कस थ्रो और शॉट-पुट में प्रथम स्थान हासिल की और 2 गोल्ड मेडल हासिल की है.

1500 मीटर दौड़ में रजत पदक हासिल की

वहीं, रामबाई की छोटी बेटी 65 वर्षीय संतरा देवी ने 1500 मीटर दौड़ में रजत पदक हासिल की हैं. साथ ही शॉटपुट स्पर्धा में कांस्य पदक और 5 किलोमीटर पैदल चाल में रजत पदक हासिल की है. रामबाई 11 फरवरी को 100 मीटर फर्राटा दौड़ में अपनी चुनौती पेश करेंगी. प्रतियोगिता में रामबाई की नातिन शर्मिला सांगवान भी प्रतिभा दिखाएंगी.

अलवर में भी हासिल की थी सफलता

उड़नपरी दादरी के नाम से विख्यात रामबाई की नातिन शर्मिला सांगवान ने बताया कि हाल ही में 6 और 7 फरवरी को राजस्थान के अलवर में आयोजित ओपन नेशनल एथलेटिक्स प्रतियोगिता में भी नानी ने सफलता के झंडे गाड़े थे. उन्होंने इस प्रतियोगिता में 100 मीटर दौड़, शॉट पुट और डिस्कस थ्रो में तीन गोल्ड मेडल हासिल किए थे.