नीता अंबानी ने घर में बनाए थे ये 4 नियम, खुद मुकेश अंबानी तक नहीं तोड़ सकते थे एक भी रूल

0
209

अंबानी परिवार की हर एक चीज सुर्खियां बन जाती है और जब बात नीता अंबानी की हो, तो उनकी परवरिश की हर कोई तारीफ करते हुए नजर आता है। नीता अंबानी ने देश के सबसे अमीर परिवार से होने के बावजूद अपने तीनों बच्‍चों को जमीन से जुड़े रहना सिखाया है। इस आर्टिकल में हम आपको नीता अंबानी की पैरेंटिंग से जुड़ी कुछ बातों के बारे में बता रहे हैं जो आपको भी पैरेंटिंग में मदद कर सकती हैं। अगर आप भी एक मां या पैरेंट हैं तो नीता अंबानी की परवरिश से जुड़ी ये बातें आपके बहुत काम आ सकती हैं।

स्ट्रिक्‍ट मां थीं नीता अंबानी

ईशा अंबानी ने एक बार कहा था कि उनकी मां बहुत स्ट्रिक्‍ट थीं और वो चाहती थीं कि हम समय पर खाना खाएं, पढ़ाई करें और उसके साथ ही खेलकूद भी करें। अगर वो स्‍कूल बंक करना चाहती थीं, तो इसमें उनके पापा को कोई प्रॉब्‍लम नहीं थी लेकिन उनकी मां उन्‍हें कभी ऐसा नहीं करने देती थी। बच्‍चों के साथ स्ट्रिक्‍ट रह कर आप उन्‍हें ये समझा सकते हैं कि समय बहुत कीमती है।

हमेशा अपने बच्‍चों के साथ खड़ी रहीं

नीता अंबानी पर घर की ही नहीं बल्कि परिवार की भी बहुत जिम्‍मेदारियां थीं और इस वजह से उन्‍हें अपने बच्‍चों के लिए कम समय मिल पाता था लेकिन उन्‍होंने कभी भी अपनी मां होने की जिम्‍मेदारियों में चूक नहीं की। ईशा ने यह भी बताया था कि जब भी बच्‍चों को जरूरत पड़ती थी, उनकी मां नीता अंबानी हमेशा उनके साथ होती थीं और उन्‍होंने करियर और फैमिली के बीच काफी अच्‍छा संतुलन बनाकर रखा था।

पैसों की कद्र करना सिखाया

देश के सबसे अमीर परिवार में पैदा होने के बावजूद नीता अंबानी ने अपने बच्‍चों के सिर पर पैसे का खुमार नहीं चढ़ने दिया। नीता अपने बच्‍चों को पॉकेट मनी दिया करती थीं और बच्‍चों को उतने ही पैसों में अपना खर्चा चलाना होता था। आप भी नीता अंबानी से बच्‍चों को पैसों की वैल्‍यू समझना सिखा सकते हैं। इससे बच्‍चे बिगड़ते नहीं हैं।

 

बच्‍चों पर रखती थीं नजर

नीता हमेशा अपने बच्‍चों पर नजर रखती थीं। वो जानती थीं कि उनके बच्‍चे कहां जा रहे हैं और क्‍या कर रहे हैं। वैसे तो बच्‍चों पर नजर रखना नेगटिव बात है लेकिन हर पैरेंट को ये जरूर पता होना चाहिए कि उनका बच्‍चा क्‍या कर रहा है और वो सेफ है या नहीं। हर मॉडर्न पैरेंट को यह स्किल आना चाहिए।
इसके अलावा नीता अंबानी का मानना था कि आप चाहे कितने भी बिजी क्‍यों ना हों या आप कितने ही अमीर परिवार से क्‍यों ना हों, अगर आपके बच्‍चे हैं, तो आपको उन पर ध्‍यान देना है। यहां तक कि खुद मुकेश अंबानी को यह रूल मानना पड़ता था और अपने काम के बावजूद उन्‍हें बच्‍चों के लिए समय निकालना पड़ता था। शायद हर इंडियन पैरेंट के लिए ये पैरेंटिंग टिप्‍स काफी काम आ सकते हैं।