फाइनल में हार के बाद भारतीय कप्तान का छलका दर्द, बताया कहां रह गई कमी

0
51

आईसीसी मेन्स अंडर-19 वर्ल्ड कप 2024 के फाइनल में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के हाथों 79 रनों से हार का सामना करना पड़ा. रविवार (11 फरवरी) को बेनोनी के विलोमूर पार्क में खेले गए मुकाबले में भारतीय टीम 254 रन के लक्ष्य के सामने 43.5 ओवर में 174 रन पर आउट हो गई. उसकी तरफ से सलामी बल्लेबाज आदर्श सिंह (47) और आठवें नंबर के बल्लेबाज मुरुगन अभिषेक (42) ही कुछ संघर्ष पड़ पाए.

कप्तान उदय सहारन का छलका दर्द

भारतीय टीम बिना कोई मैच गंवाए अंडर-19 वर्ल्ड के फाइनल में पहुंची थी, लेकिन खिताबी मुकाबले में वह मोमेंटम बरकरार नहीं रख पाई. फाइनल मैच हारने के बाद भारतीय कप्तान उदय सहारन काफी निराश दिखे. सहारन ने स्वीकार किया कि उनकी टीम ने अपनी रणनीति पर अमल नहीं किया और खराब शॉट खेलने का खामियाजा भुगता.

उदय सहारन ने मैच के बाद कहा, ‘हमने कुछ खराब शॉट खेले और क्रीज पर अधिक समय बिताने में नाकाम रहे. हमने अच्छी तैयारी की थी लेकिन हम अपनी रणनीति पर अमल नहीं कर पाए.’

भारत फाइनल में भले ही हार गया, लेकिन कप्तान सहारन ने टूर्नामेंट में प्रभावशाली प्रदर्शन के लिए अपनी टीम की प्रशंसा की. उन्होंने कहा, ‘यह बहुत अच्छा टूर्नामेंट रहा. मुझे अपने खिलाड़ियों पर गर्व है. उन्होंने शानदार खेल दिखाया. उन्होंने शुरू से ही अपने जज्बे का शानदार नमूना पेश किया.’

ऑस्ट्रेलियाई टीम के चौथी बार अंडर-19 विश्व कप जीतने को उसके कप्तान ह्यू वीबगेन ने अविश्वसनीय करार दिया. उन्होंने कहा, ‘यह अविश्वसनीय है. मुझे अपने खिलाड़ियों और कोच पर गर्व है. यह पिछले कुछ महीनों में की गई कड़ी मेहनत का परिणाम है.’

एक साल के अंदर तीसरा फाइनल हारा भारत

देखा जाए तो भारत को ऑस्ट्रेलिया के हाथों एक साल के अंदर तीसरी बार फाइनल मुकाबले में हार झेलनी पड़ी है. पिछले साल 7-11 जून के बीच लंदन के ‘द ओवल में टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया के सामने WTC फाइनल में थी. उस मैच में भारत को 209 रनों से हार झेलनी पड़ी थी.

फिर 19 नवंबर को भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 का फाइनल मुकाबला खेला गया था. फाइनल मुकाबले में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ छह विकेट से हार झेलनी पड़ी. इस हार के चलते टीम इंडिया का तीसरी बार वर्ल्ड चैम्पियन बनने का सपना चकनाचूर हो गया. अब भारत की यूथ ब्रिगेड से उम्मीद थी कि वह ऑस्ट्रेलिया से सीनियर्स टीम की हार का बदला लेगी, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया.