RO NO.....12737/20

CG में स्वयंसेवक निकालेंगे पर्यावरण चेतना यात्रा, 50 हजार घरों में लगाएंगे पौधे

0
102

रायपुर। विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुषांगिक संगठन पर्यावरण संरक्षण गतिविधि समिति का छत्तीसगढ़ में कई कार्यक्रम निर्धारित है। इनमें प्रमुख रूप से स्वयंसेवक पर्यावरण साइकिल चेतना यात्रा निकालेंगे। प्रदेश के सभी जिला केंद्रों पर पर्यावरण संरक्षण को लेकर साइकिल चेतना यात्रा समेत पर्यावरण संगोष्ठी, पर्यावरण पूरक जीवन शैली, पौधारोपण, स्वच्छता अभियान आदि प्रमुखता से होंगे। इस दिन प्रदेश के सभी जिलों में पर्यावरण के लिए संदेश देने को स्वयंसेवी घर से निकलेंगे। हर घर बीजारोपण से वृक्षारोपण अभियान इस वर्ष गांव-गांव की बस्तियों तक घरों में पौधों की नर्सरी लगाने का लक्ष्य रखा गया है। प्रदेश के 50 हजार घरों में पौधारोपण किया जाएगा।

RO NO.....12737/20

चल रहा एक पेड़ देश के नाम अभियान

पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के प्रदेश संयोजक डा. अनिल कुमार ने बताया कि “एक पेड़ देश के नाम” से एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें पूरे वर्ष भर 2500 समितियों के माध्यम से घर-घर नर्सरी लगाने का अभियान चल रहा है। इस अभियान का उद्देश्य पौधा रोपण नहीं, बल्कि बीजारोपण से वृक्षारोपण करना है। हर व्यक्ति के मन मे पर्यावरण के प्रति प्रेम का बीजारोपण करना है।

स्कूली विद्यार्थियों और समाज के स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद से यह अभियान चलाया जा रहा है। पांच जून विश्व पर्यावरण दिवस पर इन समितियों के माध्यम से समाज का पर्यावरण के प्रति जन जागरण किया जाएगा। इस कार्यक्रम में समाज के प्रतिष्ठित नागरिकों के साथ-साथ हर समुदाय के लोग बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने का संकल्प लिए हैं। साथ ही नदियों जलाशयों को स्वस्छ सुंदर बनाने का संकल्प लिया जाएगा।

रायपुर में होंगी कई संगोष्ठियां

रायपुर महानगर के कई स्थानों पर पर्यावरण संगोष्ठी और संकल्प कार्यक्रम होंगे। इसके अलावा दुर्ग भिलाई, बेमेतरा, बिलासपुर केंद्रीय विश्वविद्यालय में संगोष्ठी व अरपा सफाई अभियान, बस्तर, कवर्धा, मुंगेली, कोरबा, सरगुजा,राजनांदगांव और अन्य जिलों में पौधारोपण, सरगुजा संभाग में जनजागरण यात्रा, रायगढ़ में पर्यावरण रथ यात्रा से पौधों का वितरण होगा । जल,जंगल,जमीन और जानवरों का संरक्षण के साथ-साथ पेड़ लगाओ पानी बचाओ और पालीथिन हटाओ का नारा बुलंद किया जा रहा है जिससे पर्यावरण और समस्त प्राणियों को सुरक्षित रखा जा सके।