RO NO.....12737/20

IPL से बड़ी लीग तैयार करने जा रहा है सऊदी! टेंशन में आई BCCI

0
138

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2023 दुनिया की सबसे बड़ी टी20 लीग बनी हुई है। फिर चाहे वह पैसों के मामले में शामिल हो, वर्ल्ड क्लास खिलाड़ियों की भागीदारी, या सोशल मीडिया पर फैन फॉलोइंग, दुनिया भर में अन्य टी20 लीगों की तुलना में आईपीएल बेजोड़ रहता है। हालांकि, चीजें जल्द ही बदल सकती हैं क्योंकि सऊदी अरब ने आईपीएल टीमों के मालिकों को उनके देश में दुनिया की सबसे अमीर टी20 लीग बनाने का मौका दिया है। फुटबॉल और फॉर्मूला 1 जैसे दूसरे खेलों में भारी निवेश करने के बाद सऊदी अरब की नजर अब क्रिकेट पर है। उन्होंने इस मुद्दे को लेकर बीसीसीआई से भी बात की ताकि भारतीय खिलाड़ी इस लीग में हिस्सा ले सके। अब इस मुद्दे ने बीसीसीआई की टेंशन को बढ़ा दिया है।

RO NO.....12737/20

BCCI ने लिया फैसला

सऊदी अरब सरकार अपने टी20 लीग के लिए कथित तौर पर भारतीय बोर्ड और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फ्रेंचाइजी को शामिल करने की योजना बना रही है। बीसीसीआई ने सऊदी के इस प्रस्ताव पर तुरंत अपना फैसला ले लिया। उन्होंने साफ कह दिया है कि वह सऊदी अरब में टी-20 लीग के लिए अपने खिलाड़ियों को रिलीज नहीं करेंगे। बोर्ड के नियमों में बदलाव की खबरों पर बात करते हुए बीसीसीआई के एक सूत्र ने कहा कि “भारतीय खिलाड़ियों को रिलीज करने का कोई सवाल ही नहीं है। वास्तव में इस सवाल का आधार ही गलत है।”

IPL फ्रेंचाइजी से साउदी की बात?

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार सऊदी पहले ही आईपीएल फ्रेंचाइजी के साथ बातचीत कर चुका है, लेकिन आईपीएल टीमों के 10 मालिकों में से छह ने क्रिकबज से बात की, उन्होंने साफ कहा कि उन्हें इस लीग के बारे में कुछ भी पता नहीं है। टीमों के मालिकों ने इस पर खुलकर बात नहीं की, लेकिन बीसीसीआई के सूत्र ने सऊदी अरब में आने वाले समय में इस तरह की लीग को लेकर साफ इनकार कर दिया।

विदेशी बोर्ड अपने खिलाड़ियों क्यों देते हैं NOC

बीसीसीआई की लंबे समय से अपने खिलाड़ियों को विदेशी टी20 लीगों के लिए रिलीज नहीं करने की नीति रही है, लेकिन बीसीसीआई यह सुनिश्चित करता है कि प्रत्येक विदेशी बोर्ड को प्रत्येक विदेशी खिलाड़ी के वेतन का 10 प्रतिशत भुगतान उसकी कमाई से कुछ भी लिए बिना किया जाए। बीसीसीआई ने इस साल के आईपीएल के लिए सऊदी अरब सरकार और उसकी कंपनियों के साथ समझौता किया है, सऊदी पर्यटन प्राधिकरण और दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी अरामको लीग के स्पोंसर हैं।