CG पुलिस के DGP से मिलकर लौटीं राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष, फिर दे दिया ये बड़ा बयान

0
170

रायपुर। छत्तीसगढ़ आईं राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष को प्रदेश के DGP का रवैया पसंद नहीं आया। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने रायपुर में छत्तीसगढ़ के DGP अशोक जुनेजा से मुलाकात की। बुधवार को दिल्ली लौटने से पहले उन्होंने पत्रकारों को बताया कि – यहां के DGP के बोलने का अंदाज था, ऑल इस वेल…. सब कुछ सही है, सब सही चल रहा है। मतलब वो कोई सजेशन लेने को तैयार नहीं, कोई बात सुनने को तैयार नहीं। सब कुछ सही चल रहा है कह रहे हैं। मुझे तो एेसा लगा रहा था कि राज्य मंे पुलिस की जरुरत ही नहीं, यहां इतना ठीक हो गया है सब कुछ ! मगर ऐसा है नहीं है वातस्व में हमरे पास कंप्लेन आती है जो बहुत गंभीर प्रवृत्ति की हाेती हैं।

 

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इससे पहले रायपुर के शास्त्री चौक स्थित छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के कार्यालय पहुंची और आयोग की गतिविधियों की जानकारी ली। शर्मा ने सेरीखेड़ी ग्राम पंचायत स्थित कल्पतरु मल्टीयूटिलिटी सेंटर पहुँचकर महिला स्व सहायता समूह द्वारा संचालित की जा रही विभिन्न आर्थिक गतिविधियों का भी अवलोकन किया। यहाँ महिलाएं सैनिटाइज़र, चप्पल, फिनाइल, अगरबत्ती, बिस्किट, साबुन, बल्ब आदि बनाकर आर्थिक रूप से सशक्त बन रही हैं।
छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष का राजकीय गमछा और प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान किया। डॉ. नायक ने रेखा शर्मा को राज्य महिला आयोग का निरीक्षण कराया और आयोग के कार्यों की विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर आयोग के सचिव श्री आनंद प्रकाश किसपोट्टा और आयोग के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे।

डॉ. नायक ने राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष शर्मा को राज्य महिला आयोग के वार्षिक प्रतिवेदन की जानकारी दी। उन्होंने राष्ट्रीय महिला आयोग के द्वारा समय-समय पर दिये जाने वाले कार्यक्रमों पर छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के क्रियान्वयन से भी अवगत कराया। डॉ. नायक ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने अब तक 16 जिलों में मानव तस्करी की रोकथाम के लिये जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन के साथ बैठक की है। साथ ही हितधारकों तथा पीड़ितों के पुनर्वास के लिए एन.जी.ओ. और विभिन्न विभाग के अधिकारियों से चर्चा की गई है। उन्होंने बताया कि 16 सितम्बर से बस्तर संभाग के 7 जिलों में दौरे के साथ इस विषय पर जिलावार बैठकें होनी है।

डॉ. नायक ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग द्वारा मुख्यमंत्री महतारी न्याय रथ के रूप में एक नई पहल की गई है। इसके लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आयोग का पूरा सहयोग किया और डी.एम.एफ. फंड से सीधे राशि दिलाये जाने का प्रावधान किया। इसके तहत महिला आयोग को अब तक कुल 13 जिलों से लगभग 72 लाख रूपये प्राप्त हो चुके हैं। महिला आयोग द्वारा तैयार मुख्यमंत्री महतारी न्याय रथ में एक बड़ी एलईडी स्क्रीन लगी है, इसके माध्यम से गांव-गांव जाकर महिलाओं को उनके अधिकारों और कानूनों के संबंध में जागरूक किया जा रहा है। न्याय रथ में 2 अधिवक्ता और काउंसलर भी रहते हैं, जो मौके पर महिलाओं की समस्याओं को सुनकर जरूरी सलाह देते हैं।

डॉ. नायक ने बताया कि न्याय रथ ने दुर्ग जिले में लगभग 16 दिन तक 70 जगहों और रायपुर जिले में 8 दिन तक महिलाओं, छात्र-छात्राओं के बीच लीगल अवेयरनेस का कार्य किया है। वर्तमान में जांजगीर जिले में 16 दिन तक न्याय रथ के माध्यम से लीगल अवेयरनेस का काम किया जा रहा है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों की हजारों महिलाओं और नागरिकों को उनके गांवों में ही कानूनी अधिकारों की जानकारी मिल रही है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में त्वरित गति से महिलाओं की समस्याओं के निवारण के लिए कार्य किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here