CG: कुएं में गिरा डेढ़ साल का मासूम। जान बचाने बुआ ने भी लगाई कुएं में छलांग

0
128

गरियाबंद में एक डेढ़ साल का मासूम गहरे कुएं में जा गिरा मगर बुआ के साहस के चलते मासूम की जान बच गई बुआ ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए तत्काल कुएं में छलांग लगा दी किंतु तब तक बच्चे के पेट में पानी भर चुका था और सांस लगभग बंद हो रही थी इसके बाद बच्चे के पेट में भरा पानी दबाकर और बच्चे को उल्टा कर निकाला बच्चे को मुंह से सांस दी तब जाकर बच्चे की धड़कन पुनः चालू हुई घटना ग्राम केरगांव की है हालांकि बच्चे की हालत अभी भी पूरी तरह ठीक नहीं हुई है जिसे देखते हुए जिला चिकित्सालय से उसे रायपुर रेफर किया गया है।

केरगांव के ध्रुव परिवार के यहां आज शाम उस वक्त हड़कंप मच गया जब दादी ने देखा कि डेढ़ साल का मासूम हर्ष ध्रुव कुएं में गिर गया है और छटपटा रहा है दादी से देख कर रोने लगी बच्चे की मां दौड़ कराई तो उसे भी कुछ नहीं सूझा चीख-पुकार मचाने पर कुछ और लोग पहुंचे मगर गहरा कुआं देखकर हर कोई डरा हुआ था। इसी बीच बच्चे की बुआ गायत्री ध्रुव ने बच्चे की जान बचाने अपनी जान की परवाह ना करते हुए अंधेरा होने के बावजूद 20 फीट गहरे कुएं में छलांग लगा दी और कुएं में बच्चे को ढूंढने लगी।

गरियाबंद जिला अस्पताल में साहसी बुआ गायत्री ध्रुव ने बताया कि नीचे बच्चे को ढूंढने पर उसकी सांस लगभग बंद हो रही थी। पेट और सीने में पानी भर गया था। बच्चे को उल्टा कर पेट को दबाकर पानी निकाली। फिर भी सांस नहीं चालू हुई तो मुंह से बच्चे को सांस देकर कई बार फेफड़े में दबाने के बाद और खूब पानी निकला और बच्चे की सांस किसी तरह काफी मेहनत के बाद चालू हुई।

ऊपर से दूसरे लोगों ने जब रस्सी फेंकी तो अपने मैं लपेटकर बच्चे को लेकर स्वयं ऊपर आई तब तक लोगों ने 108 एंबुलेंस को फोन किया। 108 केएमटी कृष्णा निषाद कथा पायलट शोभाराम में तत्परता दिखाते हुए तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर प्राथमिक उपचार करते हुए बच्चे को गरियाबंद जिला चिकित्सालय लाया यह वरिष्ठ चिकित्सक डॉ हरीश चौहान ने बच्चे को ऑक्सीजन देते हुए उसके फेफड़े में पानी भरने के चलते गंभीर स्थिति होने पर उसे रायपुर रिपेयर किया। वही दुखद बात यह भी है कि कुएं में कूदने के चलते साहसी बुआ का पैर टूट गया जिसे गरियाबंद में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।