RO NO.....12737/20

भले मन का चोर, दुर्ग SP ने पूछा तो बोला- चोरी के माल से गरीबों को दिए कंबल, जानवरों को खाना

0
182

दुर्ग । छत्तीसगढ़ के दुर्ग एसपी और चोर के बीच पूछताछ का एक वीडियो काफी चर्चा में है। एसपी ने जब चोर से पूछा कि चोरी की रकम का क्या किया तो उसने कहा गरीबों में बांट दिया। गाय, कुत्ता और ठंड में सड़क किनारे बैठे गरीबों को कंबल और खाने में खर्च कर दिया। चोर के इस तरह के जवाब से पूरे पुलिस अधिकारी हंस पड़े। चोर ने यहां तक कहा कि उसे चोरी करने में तो बहुत मजा आया, लेकिन बाहर आकर बहुत पछतावा हुआ। नवंबर माह में सुपेला, स्मृति नगर और वैशाली नगर थाना क्षेत्र चार अलग-अलग जगहों में चोरी की वारदातें हुईं थी। पुलिस ने जब आरोपियों को पकड़ने सीसीटीवी फुटेज से पहचान की तो उनकी पहचान हुई। इसके बाद पुलिस ने मामले में 8 आरोपियों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा किया था।

RO NO.....12737/20

खुलासे के दौरान दुर्ग एसपी अभिषेक पल्लव ने आरोपियों से पूछताछ की। पूछताछ में आरोपियों ने इतनी बेबाकी मजाकिया अंदाज में जवाब दिया मानों उन्हें अपने किए का कोई पछतावा न हो। एक चोर ने तो यहां तक कहा कि उसे चोरी का पछतावा हुआ, इससे उसने चोरी की रकम गरीबों में बांट दी।

पुलिस पूछताछ में दूसरे आरोपी महेश यादव ने बताया कि वो सिर्फ गांजा का नशा करता है और नशे के बाद चोरी की वारदात को अंजाम देता है। वहीं दूसरे आरोपी ने बताया कि उसने चोरी की रकम से जुआ खेल डाला। वह भिलाई के ललित कबाड़ी के यहां रहता है। वहां चोरी का माल खुलेआम खरीदा जाता है। उसने बताया कि वह शराब को हाथ तक नहीं लगाता, लेकिन 50 रुपए का गांजा और 7 रुपए की बीड़ी रोज पी जाता है। आरोपी ने बताया कि एनएच में फ्लाई ओवर निर्माण के दौरान सड़क किनारे लगाए गए टीन शीट को वह लोग चोरी करते और उसके बाद कबाड़ी के यहां बेच देते थे।

पुलिस 21 नवंबर को घेराबंदी करके शाहिल खान, तुकेश्वर ठाकुर और एक नाबालिग को गिरफ्तार किया था। उन्होंने बताया कि वह लोग अपने दोस्त गुलाम खान और महेश के साथ मिलकर सुपेला, वैशाली नगर और स्मृति नगर क्षेत्र में 4 सूने मकानों में चोरी कर चुके हैं। आरोपियों ने बताया कि वह लोग चोरी के बाद वहां मिला सोना चांदी और जेवरात को तरिया खैरागढ़ निवासी धर्मेंद्र वर्मा के पास लेकर जाते थे। वह चोरी के माल को धमधा निवासी गेंदराम जंघेल के यहां बिकवा देता था। पुलिस ने जब धर्मेंद्र और गेंदराम से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि वो लोग उनका रिश्तेदार गेंदराम ज्वेलरी शॉप में काम करता है। वह अपने परिचित के पास सोना को गलवा देता था। इसके बाद उसे बिकवा देता था।