छत्तीसगढ़ की विधानसभा में पहली बार, मंत्री और विधायक के बीच मारपीट की नौबत, जानें पूरा मामला

0
237

 

रायपुर । छत्तीसढ़ की विधानसभा में शुक्रवार को वो हुआ जाे अब तक नहीं हुआ था। भाजपा के विधायक अजय चंद्राकर और मंत्री शिव डहरिया आपस में भिड़ गए। तीखी बहस कुछ ही सेकंड मंे मारपीट की नौबत में बदल गई। भागकर दूसरे नेताओं ने इन्हंे अलग किया। बाहर आकर शिव डहरिया ने कहा कि अजय चंद्राकर ने मुझे धक्का दिया है।

सत्र के दूसरे दिन विधानसभा में अजय चंद्राकर ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम पर विशेषाधिकार भंग करने का आरोप लगाकर कार्यवाही की मांग की है।और कहा है कि, विधानसभा की अधिसूचना से पहले मोहन मरकाम को कैसे पता चला कि 2 दिसम्बर को बिल पेश होगा। हालाकि इस पर विधानसभा अध्यक्ष महंत ने कहा कि वे इस पर अपना फैसला बाद में देंगे। इधर अजय चंद्राकर और शिव डहरिया में तीखी नोकझोक हुई। मारपीट होते होते टल गई है। विपक्ष ने सदन से वाकआउट भी किया है। कुछ देर बाद फिर से सदन की कार्रवाई शुरू हुई।

विधानसभा में 4337 करोड़ 75 लाख 93 हजार 832 रुपए से अधिक का अनुपूरक बजट पेश हुआ है। अनुपूरक बजट पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि, बेहतर वित्तीय प्रबंधन से अक्टूबर तक 898 करोड़ का राजस्व हुआ है। छत्तीसगढ़ की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है। प्रदेश में सभी वर्गों के लोगों की आय एवं क्रय क्षमता में वृद्धि हुई है। इस अनुपूरक बजट में सौर सुजला योजना के तहत 105 करोड़ का प्रावधान है। बिजली बिल हाफ करने के लिए में 31 करोड़ का प्रावधान है। स्टील उद्योग के उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए 57 करोड़ का प्रावधान है। वहीं राजीव गांधी किसान न्याय के तहत 950 करोड़ का प्रावधान है। राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के अंतर्गत 129 करोड़ का प्रावधान रखा है।