45 गायों की मौत के मामले में बड़ा खुलासा, खाल-हड्डी के धंधेबाजों ने दिया था गायों को जहर, चार गिरफ्तार

0
145

हरियाणा के करनाल में नगर निगम की फूसगढ़ स्थित गोशाला नंदी ग्राम में 26 जनवरी की रात 45 गायों की मौत का राज खुल गया है। पुलिस ने इस मामले का खुलासा करते हुए कुरुक्षेत्र जिले के शाहबाद की डेहा बस्ती निवासी विशाल, करनाल की मंगल कॉलोनी निवासी रजत, अंबाला कैंट की डेहा बस्ती निवासी सोनू और जम्मू कश्मीर की झुग्गी-झोपड़ी निवासी सूरज को गिरफ्तार कर लिया। एक आरोपी फरार बताया जा रहा है।

 

गोशाला नंदी ग्राम में 45 गायों की मौत के मामले की जांच पुलिस तो कर ही रही थी, साथ ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी मंडलायुक्त डॉ. साकेत कुमार की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय जांच कमेटी का गठन किया था। जिसने अंतरिम रिपोर्ट भी सरकार को दी है। घटना के 10 दिन बाद आई फ़एसएल रिपोर्ट में ये स्पष्ट हुआ था कि गायों की मौत जहर से हुई है।

जहर हरी घास में न होकर, गायों को मारने के लिए इरादतन दिए जाने के संकेत थे। इसके बाद जब पुलिस ने हड्डी खाल का कार्य करने वालों का नेटवर्क खंगाला और 26 जनवरी की रात गोशाला में मोबाइल फोन की लोकेशन ट्रैक किया तो पांच मोबाइल फोन नंबरों की जानकारी मिल गई। शक तब और बढ़ा, जब ये मोबाइल फोन नंबर गोशाला के नहीं निकले। इसके बाद पुलिस ने मामले का खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

सीआईए-2 प्रभारी मोहन लाल ने बताया कि पहले ये लोग एक या दो गायों को जहर देते थे, लेकिन 26 जनवरी की रात नशे में होने के कारण 45 गायों को गोशाला जाकर गुड़ में मिलाकर सल्फास का पावडर खिला दिया। जिससे कुछ ही देर में गायों की मौत हो गई। गिरफ्तार आरोपियों का एक साथी शाहबाद की डेहाबस्ती निवासी अमर फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है।

 

ये सभी आरोपी मृत गोवंश की खाल व हड्डी का धंधा करते हैं। गिरफ्तार चारों आरोपियों को पुलिस सोमवार को न्यायालय में पेश करेगी, साथ ही उन्हें रिमांड पर लेने का प्रयास किया जाएगा, ताकि उनसे पूछताछ कर ये जानकारी हासिल कर सकें कि उन्होंने कहां-कहां गोवंश को मारा है, उनके और कौन साथी हैं।