पाकिस्तान घुटने के बल विश्व कप खेलने भारत आएगा, वर्ना कंगाल ही नहीं, बर्बाद भी हो जाएगा, 5 कारण

0
106

पाकिस्तान वनडे वर्ल्ड कप 2023 में हिस्सा लेने को लेकर गजब नौटंकी कर रहा है। कभी कह रहा ठीक है और कभी कह रहा उसे भारत के बाहर खेलना है। समय-समय पर गीदड़भभकी भी दे रहा है कि अगर न्यूट्रल वेन्यू पर नहीं खेलने दिया गया तो वह भारत का बायकॉट करेगा, लेकिन क्या वाकई में ऐसा संभव है। जी नहीं, अगर ऐसा हुआ तो पाकिस्तान कम से कम इंटरनेशनल क्रिकेट सर्किट से तो गायब होगा कि साथ ही बोर्ड कंगाल और बर्बाद हो जाएगा। आइए जानते हैं कि क्यों पाकिस्तान घुटने के बल चलकर भारत में खेलने को मजबूर होगा…

भारी भरकम रेवेन्यू से हाथ धो बैठेगा पाकिस्तान

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने हाल ही में सालाना रेवेन्यू का ऐलान किया है। इसके अनुसार, 2024-27 तक के लिए प्रतिवर्ष भारत को सबसे अधिक 38.5% यानी 1,908.753 करोड़ रुपये से अधिक, जबकि पाकिस्तान को 5.75% यानी 285 करोड़ रुपये मिलेंगे। भारत के मुकाबले तो यह राशि कम है, लेकिन पाकिस्तान की पूरी कमाई की तुलना में लगभग दोगुना है। दरअसल, उसकी पूरी कमाई लगभग 137 करोड़ रुपये ही है। ऐसे में अगर वह ICC इवेंट से हटता है तो रेवेन्यू नहीं मिलेंगे, जो बड़ा झटका होगा। पाकिस्तान सपने में भी इस बारे में नहीं सोचेगा।

आईसीसी करेगी कार्रवाई, बैन भी लग सकता है

आईसीसी इवेंट से हटने का मतलब कि काउंसिल के खिलाफ जाना। दूसरी ओर, इंटरनेशनल क्रिकेट में भारत की साख दमदार है। भारत के रसूख के आगे आईसीसी भी झुकता है। ऐसे में जैसे ही पाकिस्तान हटेगा उस पर लंबा चौड़ा बैन भी लग सकता है। पाकिस्तान के लिए यह पैर पर कुल्हाड़ी मारने से कम नहीं होगा। पाकिस्तान कतई ऐसा नहीं चाहेगा।

भारत के खिलाफ खड़े होने का किसी में दम नहीं

पाकिस्तान के पास भारत के बाहर खेलने की मांग करने का हक है, लेकिन इसका समर्थन कौन करेगा? संभवत: कोई नहीं। पहली बात तो यह है कि भारत और पाकिस्तान का एक-दूसरे के देश में नहीं खेलने का फैसला सिर्फ उनका निजी है दूसरा कि भारत की साख ऐसी है कि उसके खिलाफ जाने दम किसी में नहीं है। फिलहाल इंटरनेशनल क्रिकेट मतलब भारत है, क्योंकि आईसीसी की कमाई का सबसे बड़ा जरियर भारत है। अगर भारत कमाकर नहीं देगा तो पाकिस्तान जैसे देश अपने खिलाड़ियों को सैलरी भी नहीं दे पाएंगे।

पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट हो जाएगा बंद

मान लीजिए कि पाकिस्तान ने हटने का फैसला कर ही लिया तो क्या होगा। अगर ऐसा हुआ तो आईसीसी एक तो कार्रवाई करेगा दूसरे भारत के समर्थन में पाकिस्तान का बायकॉट भी किया जा सकता है। ऐसे में पाकिस्तान में क्रिकेट बंद होने की पूरी संभावना है। हाल फिलहाल में कुछ टीमों ने दौरा किया है, लेकिन अभी भी टीमें दबाव में पाकिस्तान जाती हैं।

आर्थिक कंगाली और खिलाड़ियों की बर्बादी

इस पूरे मामले से आर्थिक कंगाली झेल रहे पाकिस्तान के क्रिकेट बोर्ड के लिए खतरे की घंटी होगी, क्योंकि पैसे कमी कमी से वह अपने खिलाड़ियों को भी सैलरी नहीं दे पाएगा। स्टेडियमों के रख रखाव में बड़ी राशि खर्च होती है, अगर ऐसा हुआ तो पाकिस्तान से क्रिकेट और खिलाड़ी बर्बादी की कगार पर होंगे। उसके डोमेस्टिक क्रिकेट का ढांचा इतना मजबूत नहीं है कि वह स्टेडियम और प्लेयर्स की सैलरी का खर्च उठा सके। ऐसे में खिलाड़ी फ्रेंचाइजी क्रिकेट की ओर मूव करेंगे, जिससे उसकी विंडीज वाली स्थिति हो जाएगी।