छत्तीसगढ़ के मजदूरों का लाखों में हुआ सौदा,महिला ,बच्चे समेत 16 को मिर्जापुर में बनाया गया बंधक

0
176

जांजगीर चाम्पा. जिले के 16 मजदूरों को उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर मे बंधक बना लिया गया है. मिर्जापुर से अपने गांव आए मजदूर और वहां फंसे मजदूरों के परिजन कलेक्टर से मदद की गुहार लगाने कलेक्टर कार्यालय पहुंचे. ईंट भट्ठा ठेकेदार द्वारा परिजनों पर किए जा रहे प्रताड़ना के बारे में कलेक्टर को पूरी बात बताई गई . मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने जिला श्रम पदाधिकारी को कार्रवाई का निर्देश दिया है .

जांजगीर चाम्पा जिला से मजदूरों का पलायन लगातार जारी है. जिला प्रशासन भले ही पलायन को स्वीकार नहीं करती लेकिन ईंट भट्ठे मे बंधक बने मजदूर हकीकत को बयां कर रहे है . नवागढ़ ब्लाक के सेमरा गांव से 16 मजदूर दलाल के माध्यम से उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के ईंट भट्ठा में काम करने गए थे. कुछ दिन तक वहां सब ठीक था. जब रुपए के हिसाब की बात आई तो भट्ठा मालिक ने दलाल को मजदूर लाने के लिए 3 लाख देने की बात कही. कम लेबर भेजने के कारण इन्ही लेबर से दलाल का पैसा वसूल करने के लिए धमकी दी. पैसा नहीं चुकाने पर जान से मारने की धमकी भी दी है.

डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश
गांव के मजदूरों ने बताया कि ठेकेदार की दबंगई और दुर्व्यवहार से अपनी कमाई का पूरा पैसा छोड़ कर भागना पड़ा . एक मजदूर अपने पत्नी और 15 माह के बच्चे को वहीं छोड़ कर पैसे का इंतजाम करने अपने गांव आया है. पैसे का इंतजाम नहीं होने पर अब जिला प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है. मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने जिला श्रम पदाधिकारी को मामले मे कार्रवाई के निर्देश दिया है.

मिर्जापुर प्रशासन को दी गई सूचना
जिला श्रम पदाधिकारी ने बताया कि सैमरा गांव से शिकायत मिली है, परिजनों ने पुरुष, महिला और छोटे बच्चो के साथ 16 मजदूरों को बंधक बनाने की शिकायत की है. इस मामले मे मिर्जापुर जिला प्रशासन से चर्चा कर जानकारी दी गई है. मजदूरों को उनके गांव पहुंचाने के लिए भी चर्चा हुई है. अब मिर्जापुर जिला प्रशासन द्वारा मजदूरों के विषय में जो भी जानकारी दी जाएगी उसके तहत आगे की कार्रवाई होगी. बंधक मजदूरों के परिजन भट्ठा मालिक के दहशत में है. परदेश मे बंधक बने महिलाओं-पुरुष और 5 बच्चों की सकुशल वापसी का इंतजार कर रहे है.