जानिए कौन थी कार चलाने वाली दुनिया की पहली महिला? भारत में किसने की थी इसकी शुरुआत

0
177

दुनिया में महिलाएं पुरुषों से किसी मामले में पीछे नहीं हैं। भारत समेत दुनिया के कई देशों में महिलाएं ट्रेन से लेकर प्लेन तक उड़ा रही हैं। लेकिन क्या जानते हैं कि दुनिया में किस महिला ने सबसे पहले कार चलाई थी? भारत में पहली बार कार चलाने वाली महिला कौन थी? आज हम आपको इन सवालों के जवाब बताएंगे।

इस भागदौड़ भरी दुनिया में महिलाएं सभी काम कर रही हैं। महिला कार भी चला रही हैं, लेकिन इसमें सबसे बड़ा योगदान बेर्था बेंज का है। बेंथा बेंज दुनिया की वह महिला है जिन्होंने सबसे पहले कार चलाई थी। उन्होंने मर्सिडीज बेंज के संस्थापक और अपने पति कार्ल बेंज की बिना अनुमति के कार चलाई थी। बेंजा ने पहली बार 106 किमी तक कार चलाया था। सबसे खास बात यह है कि इस कार में सिर्फ तीन पहिए थे। फोर्ड से बहुत पहले कार्ल बेंज ने काम करने वाली कार बना दी थी।

जानिए बेर्था के कार चलाने की वजह

फोर्ड ने दुनिया की पहली और सस्ती कार को बाजार में उतारा था। यह सस्ती कार मॉडल-टी थी, लेकिन कार्ल बेंज ने पहले ही पहली कार के तौर पर पेटेंट-मोटर व्हीकल मॉडल-3 बनाई थी। हालांकि बनाने के तीन साल तक एक भी कार की बिक्री नहीं हुई। इसके बाद बेर्था ने कार्ल बेंज को सलाह दी कि नई कार को सड़क पर चलाकर दिखाया जाना चाहिए। इससे लोगों को कार के बारे में जानकारी मिलेगी और इसकी बिक्री होगी। बेर्था की इस विचार से कार्ल बेंज सहमत नहीं थे। उन्होंने सड़क पर कार को चलाकर प्रदर्शन करने की इजाजत नहीं दी।

बिना मंजूरी के बेर्था ने चलाई कार

बेर्था ने अगस्त 1888 में कार को पति कार्ल बेंज और कंपनी के अधिकारियों से बिना इजाजत के सड़क पर कार को चलाया। उन्होंने इसकी क्षमता को दिखाने के लिए 106 किमी तक कार चलाई। इसके बाद वह दुनिया की कार चलाने वाली पहली महिला बन गईं।