भारत में कोरोना केस 25% बढ़ गए, क्या खतरे की बज रही है घंटी, जानिए

0
174

नई दिल्ली: चीन समेत दुनिया के कई देशों में बढ़ रहे कोरोना मामलों के बीच अब भारत में भी चिंता बढ़ गई है। देश में लगातार दूसरे सप्ताह कोरोना मामलों में इजाफा देखा गया है। हालांकि कोविड केस में इजाफा कम है। रविवार को समाप्त हुए सप्ताह में देश में कोरोना के 1526 नए मामले दर्ज किए गए, जो कि पिछले सप्ताह के 1219 के मुकाबले 25 फीसदी ज्यादा है।

कोरोना से होने वाली मौतों में आई रेकॉर्ड कमी
इस बीच मार्च 2020 के बाद पहली बार पिछले सप्ताह यानी 26 दिसंबर-1 जनवरी के दौरान कोविड से होने वाली मौतों की संख्या घटकर छह पर आ गई। इससे पहले 16 से 22 मार्च 2020 में कोरोना से एक भी मौत दर्ज नहीं की गई थी, इसके बाद पिछले सप्ताह में सबसे कम मौतों हुईं। टीओआई के कोविड डेटाबेस के अनुसार, इससे पिछले सप्ताह (19-25 दिसंबर) में 16 मौतें दर्ज की गई थीं।

कर्नाटक में कोविड केस में तेजी से उछाल
कर्नाटक में कोरोना के मामलों में जबरदस्त उछाल देखा गया, जहां कोविड के इस सप्ताह 276 नए मामले दर्ज किए गए, जबकि पिछले सप्ताह कोरोना के 116 मामले दर्ज किए गए थे। इसके अलावा किसी भी राज्य में कोविड केस में तेजी से उछाल नहीं आया। हालांकि कुछ राज्यों में मामूली वृद्धि देखी गई। केरल में पिछले सप्ताह के 416 मामलों के मुकाबले 467 मामले दर्ज किए गए। वहीं तमिलनाडु में भी कोरोना मामलों में इजाफा देखने को मिला, जो कि पिछले सप्ताह के 47 केसों से बढ़कर 86 हो गया।

ज्यादातर राज्यों में 50 से कम कोविड केस
लेकिन देश के ज्यादातर राज्यों में कोरोना मामलों में कोई खास बदलाव नहीं हुआ। महाराष्ट्र ने इस सप्ताह 168 नए केस आए, जबकि पिछले सप्ताह 172 केस सामने आए थे। दिल्ली में 81 मामले दर्ज किए गए, जो कि पिछले हफ्ते 72 थे। वहीं राजस्थान में पिछले सप्ताह 81 कोविड केस से घटकर 48 हो गए। इन राज्यों के अलावा सभी राज्यों में 50 से कम कोरोना केस दर्ज किए गए।

कोरोना के XBB.1.5 वैरिएंट के केस बढ़े
इस बीच भारत में ओमिक्रॉन वैरिएंट के सब वैरिएंट XBB.1.5 के मामले बढ़कर 5 हो गए हैं। आखिरी मामला गुजरात में दर्ज किया गया। Insacog के अनुसार, XBB.1.5 सब वैरिएंट के गुजरात में तीन, कर्नाटक और राजस्थान में एक-एक मामले सामने आए हैं। बता दें कि अमेरिका में इस सब वैरिएंट के 40 फीसदी से ज्यादा मामले हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत में इस सब वैरिएंट का कोई भी मामला गंभीर नहीं है। लेकिन जब तक वायरस फैल रहा है तब तक बस सावधान रहने और कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की जरूरत है।