Narendra Modi

12784/20 RO NO

छत्तीसगढ़ के लिए बड़ी खबर : 12 जातियां बनी जनजाति अब मिलेगा आरक्षण और अन्य योजनाओं का लाभ

0
208

रायपुर । छत्तीसगढ़ के 12 जातीय समूहों को जनजाति वर्ग में शामिल किया गया है। केंद्र सरकार ने इसकी सूचि जारी की है। केंद्र सरकार ने जिन 12 समुदायों को अनुसूचित जनजाति के लिए प्रस्तावित किया है उसमें भारिया भूमिया (BhariaBhumia) के पर्याय के रूप में भूईंया (Bhuinya),भूईयां (Bhuiyan), भूयां (Bhuyan) Bharia नाम के अंग्रेजी संस्करण को बिना बदलाव किए भरिया (Bharia) के रूप में भारिया (Bharia) का सुधार किया गया है। वहीं पांडो के साथ पंडो, पण्डो, पन्डो और धनवार (Dhanwar) के पर्याय के रूप में धनुहार (Dhanuhar), धनुवार (Dhanuwar) को भी शामिल किया जा रहा है। गदबा (Gadba, Gadaba) और गोंड (Gond) के साथ गोंड़ को भी शामिल किया जाएगा।

वहीं कौंध (Kondh) के साथ कोंद (Kond) और कोडाकू (Kodaku) के साथ कोड़ाकू (Kodaku) शामिल होगा। नगेसिया (Nagesia), नागासिया (Nagasia) के पर्याय के रूप में किसान (Kisan) को और धनगढ़ (Dhangad) के बदले रूप धांगड़ (Dhangad) को भी अनुसूचित जनजाति का दर्जा मिल जाएगा। इसमें से अधिकतर समुदायों के जाति नाम में मात्राओं की भिन्नता होना बड़ा सिरदर्द बना हुआ था। मात्रा की गलती से ऐसे हजारों लोगों को अनुसूचित जनजाति का प्रमाणपत्र जारी नहीं हो पा रहा था।

इन जाति समुदायों के छत्तीसगढ़ की अनुसूचित जनजातियों की सूची में शामिल होने के बाद इन्हें सरकार की अनुसूचित जनजातियों के लिए संचालित योजनाओं का लाभ मिलने लगेगा। छात्रवृति, रियायती ऋण, अनुसूचित जनजातियों के बालक-बालिकाओं के छात्रावास की सुविधा मिलेगी। वहीं सरकारी नौकरी और शैक्षणिक संस्थानों में आरक्षण का भी लाभ मिल सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here