ओडिशा में एक और ट्रेन हादसा, बरगढ़ में मालगाड़ी की 5 बोगियां पटरी से उतरीं

0
102

ओडिशा में एक और ट्रेन हादसा हुआ है. ओडिशा के बरगढ़ में मालगाड़ी हादसे का शिकार हो गई है. मालगाड़ी की 5 बोगियां पटरी से उतर गई हैं.

मालगाड़ी में चूना पत्थर लदा था और इसके 5 डिब्बे बरगढ़ में पटरी से उतर गए. हालांकि, हादसे में किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है.

ईस्ट कोस्ट रेलवे का भी हादसे पर बयान आया है. रेलवे ने बताया कि निजी सीमेंट कंपनी द्वारा इस मालगाड़ी को चलाया जा रहा था. यह नैरो गेज साइडिंग पर चल रही थी. कंपनी द्वारा ही रोलिंग स्टॉक, इंजन, वैगन, ट्रेन ट्रैक (नैरो गेज) समेत सभी बुनियादी ढांचे का रखरखाव किया जा रहा है.

ओडिशा के बालासोर में हुआ दर्दनाक हादसा

इससे पहले शुक्रवार को ओडिशा में दर्दनाक रेल हादसा हुआ था. इस हादसे में अब तक 275 लोगों की जान जा चुकी है. जबकि 1100 लोग जख्मी हुए हैं. मृतकों में 187 शवों की पहचान नहीं हो पाई है.

कब और कैसे हुआ हादसा?

दरअसल, बालासोर में बहानगा बाजार स्टेशन के पास ये हादसा हुआ था. यहां चेन्नई से हावड़ा जा रही 12841 कोरोमंडल एक्सप्रेस लूप लाइन में खड़ी मालगाड़ी से टकरा गई थी. इसके बाद कोरोमंडल के कई डिब्बे पटरी से उतर गए थे. ये डिब्बे पास वाली लाइन से गुजर रही यशवंतपुर हावड़ा एक्सप्रेस से टकरा गए थे.

रिपोर्ट के मुताबिक, बहानगा बाजार स्टेशन के पास मालगाड़ी लूप लाइन में खड़ी थी. इसी बीच चेन्नई से हावड़ा जा रही 12841 कोरोमंडल एक्सप्रेस बहानगा बाजार स्टेशन के पास पहुंची. कोरोमंडल एक्सप्रेस तेज रफ्तार से मेन अप लाइन से गुजर रही थी. तभी वह मेन लाइन से लूप लाइन में आ गई और वहां खड़ी मालगाड़ी से टकरा गई. ये टक्कर इतनी भीषण थी कि कोरोमंडल एक्सप्रेस के डिब्बे पटरी से उतर गए और तीसरी लाइन से गुजरती यशवंतपुर-हावड़ा एक्सप्रेस के डिब्बों से टकरा गई. इन दोनों ट्रेनों का बहानगा बाजार स्टेशन पर स्टॉपेज नहीं है. दोनों ही ट्रेन की रफ्तार तेज थी, ऐसे में ट्रेन के डिब्बे एक दूसरे पर चढ़ गए. हादसे में 275 लोगों की मौत हो गई.

रेलवे ने सीबीआई जांच की मांग की

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव घटना स्थल पर डेरा डाले हुए हैं. उन्होंने बताया कि हमने ट्रिपल ट्रेन एक्सीडेंट में सीबीआई जांच की मांग की है. हालांकि, उन्होंने हादसे के दिन हादसे की वजह इलेक्ट्रिक प्वाइंट मशीन और इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग को बताया था. वैष्णव ने कहा, पॉइंट मशीन की सेटिंग बदल दी गई थी. ऐसा कैसे और क्यों किया गया यह जांच रिपोर्ट में सामने आएगा.

वैष्णव ने कहा, इस भयानक घटना के मूल कारण की पहचान कर ली गई है . मैं विवरण में नहीं जाना चाहता. रिपोर्ट आने दीजिए. मैं सिर्फ इतना कहूंगा कि हादसे की असली वजह और इसके लिए जिम्मेदार लोगों की पहचान कर ली गई है.